Shree Shankar: Aarti, Mantra, Vrat Katha, Chalisa, Photos

Bholenath | Mahadev | Neelkanth

ॐ जय शिव ओंकारा | Om Jai Shiv Omkara

हिंदू धर्म ग्रंथ पुराण के अनुसार भगवान शिव ही समस्त सृष्टि के आदि कारण हैं. उन्हीं से ब्रह्मा, विष्णु सहित समस्त सृष्टि का उद्भव हुआ हैं. शिव को देवों के देव अर्थात महादेव कहते हैं, इन्हें भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है. भगवान शिव हिन्दू धर्म के प्रमुख देवताओं में से हैं. शिव का अर्थ यद्यपि कल्याणकारी माना गया है, लेकिन वे हमेशा लय एवं प्रलय दोनों को अपने अधीन किए हुए हैं. शिव की उपासना एवं आरती करने से उपासक शिव के कोप से भी बचता है तथा वह जीवन-मरण के बंधन से भी मुक्त हो जाता है. प्रत्येक मास के कृष्णपक्ष की चतुर्दशी शिवरात्रि कहलाती है. फाल्गुन...


read more

Read Lord Shiva Mantra and Mantra Meaning in Hindi

देवों के देव महादेव के ‍विशेष मंत्रों के जाप से उनकी कृपा शीघ्र प्राप्त होती है, जिससे साधक अपनी मनोकामना की पूर्ति करके जीवन में सफलता-सुख-शांति प्राप्त करता है.  प्रस्तुत मंत्र का शिवरात्रि से लेकर प्रतिदिन जप करने से सुख, अपार धन संपदा, अखंड सौभाग्य और प्रसन्नता में वृद्धि होती है. जप करने के लिए रुद्राक्ष की माला का उपयोग करना चाहिए.  मंत्रों का जाप पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके करना चाहिए. जप के पूर्व शिवजी को बिल्वपत्र अर्पित करना चाहिए. उनके ऊपर जलधारा अर्पित करना चाहिए. शिव का मंत्र ॐ नमः शिवाय शिव को प्रसन्न करने तथा उनकी शरणागत...


read more

Somvar (Monday) Vrat Katha in Hindi | सोमवार व्रत कथा

हिन्दू धर्म के अनुसार सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है. जो व्यक्ति सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करते हैं उन्हें मनोवांछित फल अवश्य मिलता है. सोमवार व्रत के प्रकार  प्राचीन शास्त्रों के अनुसार सोमवार के व्रत तीन तरह के होते हैं. सोमवार, सोलह सोमवार और सौम्य प्रदोष. सोमवार व्रत की विधि सभी व्रतों में समान होती है. सोमवार का व्रत चैत्र वैशाख श्रावण मार्गशीर्ष व कार्तिक मास में प्रारम्भ किया जाता है. साधारणतः  श्रावण माह में सोमवार व्रत का विशेष प्रचलन है. भविष्य पुराण के मतानुसार चैत्र शुक्ल अष्टमी को सोमवार और आद्रा नक्षत्र हो तो...


read more

Shiv Chalisa in Hindi, Mahadev Chalisa

हिंदू धर्म ग्रंथ पुराण के अनुसार भगवान शिव ही समस्त सृष्टि के आदि कारण हैं. उन्हीं से ब्रह्मा, विष्णु सहित समस्त सृष्टि का उद्भव हुआ हैं. शिव को देवों के देव अर्थात महादेव कहते हैं, इन्हें भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है. भगवान शिव हिन्दू धर्म के प्रमुख देवताओं में से हैं. शिव का अर्थ यद्यपि कल्याणकारी माना गया है, लेकिन वे हमेशा लय एवं प्रलय दोनों को अपने अधीन किए हुए हैं. शिव जी के चालीसा का नित्य पाठ एवं उपासना से उपासक शिव के कोप से भी बचता है तथा वह जीवन-मरण के बंधन से भी मुक्त हो जाता है.  प्रत्येक मास के कृष्णपक्ष की चतुर्दशी शिवरात्रि...


read more

Lord Shiva Names | आइये जानते हैं भगवान शिव को किन नामों से जाना जाता है

भगवान शिव को आदि देव माना जाता है। हिन्दू मान्यतानुसार भगवान शिव संहार करने वाले माने जाते हैं। जो इस संसार में आता है उसे जाना भी होता है और भगवान शिव इसी कार्य के कर्ता माने जाते हैं। भगवान शिव को महादेव, भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ आदि नामों से भी जाना जाता है, समुद्र मंथन के समय जब समुद्र से विश निकला और उस विश के प्रकोप के सारे विश्व में त्राहि त्राहि मचने लगी तब भगवान शिव ने उस विश को अपने कंठ में धारण कर लिया तब ही से भगवान शिव को नील कंठ के नाम से जाना जाता हैं। Lord Shiva Names Shiva Uttara Mahahrada Sarvadarshana Jagadadija Tattavit Vishtarashrava Munda Samageyapriya Nishkantaka Kashinath Vinahast Hara Gopati Mahagarta Aja Guruda Ekatma Atmabhu Virupa Akrura Kritananda Kasish Vinochan Mrida Puratana Vyali Sarveshvara Lalita Vibhu Aniruddha Vikranta Punyakirti Nirvyaja Kedar Viresh Rudra Niti Siddhavrindaravandita Siddha Abheda Vishvavibhushana Atri Dandi Anaymaya Vyajamardana Kirat Vireshvar Pushkara Suniti Vyaghracharmambara Mahareta Bhavatmatmasamsthita Rishi Jnanamurti Danta Manojava Sattvavana Krishang Visamaksh Pushpalochana Shuddhatma Mahabhuta Mahabala Vireshvara Brahmana Mahayasha Gunottama Tirthakara Sattvika Krivi Vishakh Arthigamya Soma Mahanidhi Yogi Virabhadra Aishvaryajanmamrityujaratiga Lokaviragranti Pingalaksha Jatila Satyakirti Laniban Vishalaksh Sadachara Somarata Amritasha Yogya Virasanavidhi Panchayajnasamutpatti Vira Janadhyaksha Jiviteshvara Snehakritagama Lavitra Vishantak Sharva Sukhi Amritavapu Siddhi Virata Vishvesha Chanda Nilagriva Jivitantakara Akampita Madesh Vratesh Shambhu Sompapa Panchajanya Mahateja Virachudamani Vimalodaya Satyaparakrama Niramaya Vasureta Gunagrahi Madhavan Vrisag Maheshvara Amritapa Prabhanjana Sarvadi Vetta Atmayoni Vyalakapa Sahasravahu Vasuprada Naikatma Mahadev Vrisan Chandrapida Soumya Panchavimshatitattvastha Agraha Tivrananda Anadyanta Mahakalpa Sarvesha Sadgati Naikakarmakrit Mahaketu Vrisangan Chandramouli Mahatejah Parijata Vasu Nadidhara Vatsala Kalpaviriksha Sharanya Satkriti Suprita Mahamani Vrisapati Vishva Mahadyuti Para-vara Vasumana Ajnadhara Bhaktalokadhrika Kaladhara Sarvalokadhrika Sajjati Sumukha Mahesh Vrishank Vishvamareshvara Tejomaya Sulabha Satya Tridhuli Gayatrivallabha Alankarishnu Padmasana Kalakantaka Sukara Mallesh Vrisini Vedantasara-sandoha Amritamaya Suvrata Sarvapaphara Shipivishta Pramshu Achala Paramjyoti Mahakala Dakshinaila Mangesh Vyomdev Kapali Annamaya Shura Shobhana Shivalaya Vishvavasa Rochishnu Parampara Bhuasatyapraryana Nandiskandhadhara Mrigasya Yajat Nilalohita Suhapati Brahmavedanidhi Shrimana Balakhilya Prabhakara Vikramonnata Paramphala Lokalavanyakarta Dhurya Mukesh Yamajit Dhyanadhara Ajatashatru Nidhi Avanmanasagochara Mahachapa Shishu Ayuhshabdapati Padmagarbha Lokottarasukhalaya Prakata Nabhya Yayin Aparicchedya Aloka Varnashramaguru Amritashashvata Tigmamshu Giriraha Vegi Mahagarbha Chandrasanjivana Pritivardhana Nagendra Yogesh Gouribharta Sambhavya Varni Shanta Badhira Samrata Plavana Vishvagarbha Lokaguda Aparajita Nagesh   Ganeshvara Havyavahana Shatrujita Vanahasta Khaga Sushena Shikhisarathi Vichakshana Mahadhipa Sarvasattva Nakul   Ashtamurti Lokakara Shatrutapana Pratapavana Adhirma Surashatruha Asamsrishta Characharajna Lokabandhu Govinda Natesh   Vishvamurti Vedakara Ashrama Kamandalundhara Susharana Amogha Atithi Varada Lokanatha Adhrita Niranjan   Trivargasvargasadhana Sutrakara Kshapana Dhanvi Subrahmanya Arishtanemi Shatrupreamathi Varesha Kritajna Sattvavahana Obalesh   Jnanagamya Sanatana Kshama Vedanga Sudhapati Kumuda Padapasana Devasuraguru Krittibhushana Svadhrita Omkarnath   Dridaprajna Maharshi Jnanavana Vedavita Maghavana Vigatajvara Vasushrava Deva Anapaya Putamurti Panchal   Devadeva Kapilacharya Achaleshvara;Pramanabhuta Muni Koushika Svayamjyoti Pratapa Devasuramahashraya Akshara Yashodhana Panshul   Trilochana Vishvadipti Durjneya Bhrajishnu Gomana Tanujyoti Havyavaha Devadideva Sarvashastrahadvara Varahabhringadhrika Pinakin   Vamadeva Vilochana Suparna Bhojana Virama Achanchala Vishvabhojana Devagni Dyutidhara Bhringi Purahan   Madadeva Pinakapani Vayuvahana Bhokta Sarvasadhana Atmajyoti Japaya Devagnisukhada Lokagranti Balavana Purajit   Patu Bhudeva Dhanurdhara Lokanantha Lalataksha Pingala Jaradishamana Prabhu Anu Ekanayaka Pushkal   Parivrida Svastida Dhanurveda Duradhara Vishvadeha Kapilashmashru Lohitatma Devasureshvara Shuchismita Shrutiprakasha Ranesh   Drida Svastikrita Gunarashi Atindriya Sara Bhalanetra Tanunapata Divya Prasannatma Shrutimana Savar   Vishvarupa Sudhi Gunakara Sarvavasa Samsarachakrabhrita Trayitanu Brihadashva Devasuramaheshvara Durjjeya Ekabandhu Shaktidhar   Virupaksha Dhatridhama Satyasatyapara Chatushpatha Amoghadanda Jnanaskandamahaniti Nabhoyoni Devadevamaya Duratikrama Anekakrit Shankar   Vagisha Dhamakara Dina Kalayogi Madhyastha Vishvotipatti Supratika Achintya Jyotirmaya Shrivatsalashivarambha Shashibhushan   Shuchisattama Sarvaga Dharmaga Mahanada Hiranya Upaplava Tamisraha Devadevatmasambhava Jagannatha Shantabhadra Shashishekhar   Sarvapramanasamvadi Sarvagochara Ananda Mahotsaha Brahmavarchasi Bhaga Nidagha Sadyoni Nirakra Sama Shekhar   Vrishanka Brahmasrika Dharmasadhana Mahabuddhi Paramartha Vivasvana Tapana Asuravyaghra Jaleshvara Yasha Shiv   Vrishavahana Vishvasrika Anantadrishti Mahavirya Para Aditya Megha Devasimha Tumbavina Bhushaya Shivendra   Isha Sarga Danda Bhutachari Mayi Yogapara Svaksha Divakara Mahakopa Bhushana Shivesh   Pinaki Karnikara Damayita Purandara Shambara Divaspati Parapuranjaya Vibudhagravara Vishoka Bhuti Shivlal   Khatvanga Priya Dama Nishachara Vyaghralochana Kalyanagunanama Sukhanila Shreshtha Shokanashana Bhutakrit Shivraj   Chitravesha Kavi Abhivadya Pretachari Ruchi Papaha Sunishpanna Sarvadevottamottama Trllokapa Akampa Shivshankar   Chirantana Shakha Mahamaya Mahashakti Virinchi Punyadarshana Surabhi Shivajnanarata Trilokesha Bhaktikaya Sivanta   Tamohara Vishakha Vishvakarma Ahirdeshyavapu Svarbandhu Udarakirti Shishiratmaka Shikhi-shriparvatapriya Sarvashuddhi Kalaha Smaran   Mahayogi Goshakha Visharada Sarvacharyamanogati Vachaspati Udyogi Vasanta Vajrahasta Adhokshaja Satyavrata Somnath   Gopta Bhishaka Vitaraga Vahushruta Aharpati Sadyogi Madhava Siddhakhadgi Avyaktalakshana Mahatyagi Sopan   Brahma Anuttama Vinitatma Niyatatma Ravi Sadasanmaya Grishma Narasimhanipatana Vyaktavyakta Nityashantiparayana Sushil   Dhurjati Gangaplavodaka Tapasvi Adhruva Virochana Nakshatramali Nabhasya Brahmachari Vishampati Pararthavritti Swayambhu   Kalakala Bhaya Bhutabhavana Sarvashaska Skanda Nakesha Vijavahana Lokachari Varashila Vivikshu Talank   Krittivasah Pushkala Unmattavesha Ojastejodyutidara Shasta Svadhishthanapadashraya Angira Dharmachari Varaguna Shubhada Talin   Subhaga Sthapati Pracchanna Nartaka Vaivasvata Pavitra Guru Dhanadhipa Saramandhana Shubhakarta Tapeshwar   Pranavatmaka Sthira Jitakama Nrityapriya Yama Paphari Atreya Nandi Maya Shubhanama Tarakeshwar   Unnadhra Vijitatma Ajitapriya Nrityanitya Yukti Manipura Vimala Nandishvara Vishnu Shubha Taraknath   Purusha Vishayatma Kalyanaprakriti Prakashatma Unnatakirti Nabhogati Vishvavahana Ananta Prajapala Anarthita Tatya   Jushya Bhutavahana Kalpa Prakashaka Sanuraga Hrit Pavana Nagnavratadhara Hamsa Aguna Thavanesh   Durvasa Sarathi Sarvalokaprajapati Spashtakshara Paranjaya Pundarikasina Sumati Shuchi Hamsagati Sakshi Tirranand   Purashasana Sagana Tarasvi Budha Kailashadhipati Shatru Vidvana Lingadhyaksha Vaya Akarta Tisyaketu   Divyayudha Ganakaya Tavaka Mantra Savita Shranta Travidya Suradhyaksha Vedha Akul Triambak   Skandaguru Sukirti Dhimana Samana Ravilochana Vrishakapi Naravahana Yogadhyaksha Vidhata Annuabhuj Trijal   Parameshthi Chinnasamshaya Pradhanaprabhu Sarasamplava Vidvattama Ushna Manobuddhi Yugavaha Dhata Arha Trilokanath   Paratpara Kamadeva Avyaya Yugadikrida Vitabhaya Grihapati Ahamkara Svadharma Srashta Arihant Trinayan   Anadimadhyanidhana Kamapala Lokapala Yugavarta Vishvabharta Krishna Kshetrajna Svargata Harta Bhairav Tripurajit   Girisha Bhasmoddhulita-vigraha Antarhitatma Gambhira Anivarita Anarthanashana Kshetrapalaka Svargakhara Chaturmukha Bhargav Tripurari   Girijadhava Bhasmapriya Kalpadi Ishta Nitya Adharmashatru Jamadagni Svaramayasvana Kailasa-Shikharavasi Bhav Trishulank   Kuberabandhu Bhasmashyai Kamalekshana Vishishta Niyatakalyana Ajneya Balanidhi Vanadhyaksha Sarvavasi Bhavesh Trishulin   Shrikanatha Kami Vedashastrarthatattvajna Shishteshta Punyashravanakirtana Puruhuta Vigala Vijakarta Sadagati Chandrashekar Tunda   Lokavarnottama Kanta Aniyama Shalabha Durashrava Purushruta Vishvagalava Dharmakrit Hiranyagarbha Chatresh Tusya...


read more

श्री शिव स्तुति | Lord Shiva Stuti

भगवान शिव को आदि देव माना जाता है। हिन्दू मान्यतानुसार भगवान शिव संहार करने वाले माने जाते हैं। जो इस संसार में आता है उसे जाना भी होता है और भगवान शिव इसी कार्य के कर्ता माने जाते हैं। भगवान शिव को महादेव, भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है, समुद्र मंथन के समय जब समुद्र से विश निकला और उस विश के प्रकोप के सारे विश्व में त्राहि त्राहि मचने लगी तब भगवान शिव ने उस विश को अपने कंठ में धारण कर लिया तब ही से भगवान शिव को नील कंठ के नाम से जाना जाता हैं। श्री शिव स्तुति शीश गंग अर्धांग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत है, गुणभक्त...


read more

द्वादशज्योतिर्लिंगस्तोत्र

द्वादशज्योतिर्लिंगस्तोत्र में शिवजी के 12 प्रमुख स्थान का वर्णन है। जहां पर दिव्य ज्योतिर्लिंग रुप स्थित हैं। शिव का ज्योतिर्मय स्वरुप का दर्शन सभी पापों से मुक्ति दिलाने वाला व मन को निर्मल करने वाला कहा गया है। इस पावन स्त्रोत के जप से इन 12 प्रमुख तीर्थ स्थान के दर्शन का फल प्राप्त होता है।  सौराष्ट्रदेशे विशदेऽतिरम्ये ज्योतिर्मयं चन्द्रकलावतंसम्। भक्तिप्रदानाय कृपावतीर्णं तं सोमनाथं शरणं प्रपद्ये।।1।। जो भगवान् शंकर अपनी भक्ति प्रदान करने के लिए परम रमणीय व स्वच्छ सौराष्ट्र प्रदेश गुजरात में कृपा करके अवतीर्ण हुए हैं। मैं उन्हीं ज्योतिर्मयलिंगस्वरूप,...


read more

आइये जानते हैं भगवान शिव के पूजन करने की विधि

पूजन सामग्री देव मूर्ति के स्नान के लिए तांबे का पात्र, तांबे का लोटा, दूध, अर्पित किए जाने वाले वस्त्र । चावल, अष्टगंध, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, चंदन, धतूरा, अकुआ के फूल, बिल्वपत्र, जनेऊ, फल, मिठाई, नारियल, पंचामृत (दूध, दही, घी, शहद व शक्कर), सूखे मेवे, पान, दक्षिणा में से जो भी हो। सकंल्प लें पूजन शुरू करने से पहले सकंल्प लें। संकल्प करने से पहले हाथों मेे जल, फूल व चावल लें। सकंल्प में जिस दिन पूजन कर रहे हैं उस वर्ष, उस वार, तिथि उस जगह और अपने नाम को लेकर अपनी इच्छा बोलें। अब हाथों में लिए गए जल को जमीन पर छोड़ दें।  संकल्प का उदाहरण जैसे 17/2/2015 को...


read more

दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर, उज्जैन

भारत के द्वादश ज्योतिर्लिंगों में एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग। महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का मंदिर उज्जैन, मध्य प्रदेश में स्थित है। महाकाल को यहां का क्षेत्राधिपति माना गया है। उज्जैनवासी महाकाल को अपना राजा मानकर ही पूजन करते हैं। महाकालेश्वर मंदिर का इतिहास हजारों साल पुराना है। भस्मारती की प्रथा देश के द्वादश ज्योतिर्लिंग में सिर्फ महाकालेश्वर की ही भस्मारती होती है। प्रात: 4 से 6 बजे के मध्य वैदिक मंत्रों एवं स्त्रोत पाठ के साथ शिव का अभिषेक भस्म से किया जाता है। भस्म गाय के गोबर से बने कंडों द्वारा अखंड धूने में...


read more

क्या आप जानते हैं भगवान शिव को नीलकंठ क्यों कहा जाता है?

एक बार ऐसा हुआ कि दैत्यों ने देवताओं को हराकर स्वर्ग पर अपना अधिपत्य स्थापित कर लिया। देवता परेशान होकर भगवान विष्णु के पास गए। भगवान विष्णु ने कहा -ऐसा करो कि समुद्र को मथो। जब उसे मथोगे तो उसमें से अमृत निकलेगा और वो अमृत तुम पी लेना तो तुम अमर हो जाओगे उसके बाद लड़ते रहना दैत्यों से। पर इसमें दैत्यों की भी जरूरत पड़ेगी। सारे देवतओं ने मिलकर यह प्रस्ताव दैत्यराज बलि के सामने रखा। दैत्यराज बलि को भी प्रस्ताव ठीक लगा।  मंदराचल पर्वत की मथनी बनाई वासुकीनाग की रस्सी बनाई और चले सब मथने के लिए। जैसे ही मंथना आरंभ किया और 14 रत्न निकलना शुरू हुए तो सबसे पहले निकला कालकूट...


read more